PM Vishwakarma Yojana Eligibility Criteria [पीएम विश्वकर्मा योजना पात्रता मानदंड]

Prime Minister Shri. Narendra Modi has started a scheme named Vishwakarma Yojana, in which our Indian artisans and craftsmen will get lots of benefits, such as free training for skill improvement, a government certificate and ID card, Rs. 15,000 to buy their toolkit, and up to Rs. 3 lakhs loan to start and grow their business (check out full details of PM Vishwakarma Yojana Benefits).

But Wait! Before you start PM Vishwakarma Yojana Registration, you must know whether you are eligible to apply for this Yojana. So, below, we have provided details of all the eligibility criteria. Make sure to read them carefully and then apply for this scheme to gain maximum benefits. 

PM Vishwakarma Yojana Eligibility
PM Vishwakarma Yojana Eligibility

PM Vishwakarma Yojana Eligibility Criteria

The PM Vishwakarma Yojana targets our Vishwakarma families, artisans and craftspeople in the unorganised sector. Here’s a breakdown of the eligibility criteria.

  • Candidates must be 18 years or above.
  • Artisans and self-employed craftsmen who make products using their hands and tools can apply for this scheme.
  • Engaged in one of the 18 family-based traditional trades listed in the scheme.
  • If you have not taken out loans from central or state government schemes like Mudra, PMEGP, etc., in the last five years, you can get a government loan under the Vishwakarma Yojana of Rs. 3 lakhs with a minimum interest rate of 5%.
  • Only one member per household can benefit from this scheme.
  • If any of your family members are government employees, you can’t apply for this Yojana.

पीएम विश्वकर्मा योजना पात्रता मानदंड

पीएम विश्वकर्मा योजना हमारे विश्वकर्मा परिवारों, असंगठित क्षेत्र के कारीगरों और शिल्पकारों को लाभ पहुँचाने केलिए भारत सरकार के द्वारा सुभारम्भ किआ गया है। यहां पात्रता मानदंड का विवरण दिया गया है।

  • उम्मीदवारों की आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।
  • अपने हाथों और औज़ारों का उपयोग करके उत्पाद बनाने वाले कारीगर और सिल्पिकारो इस योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • योजना में सूचीबद्ध 18 परिवार-आधारित पारंपरिक व्यवसायों में से एक में संलग्न।
  • यदि आपने पिछले पांच वर्षों में केंद्र या राज्य सरकार की योजनाओं जैसे मुद्रा, पीएमईजीपी आदि से ऋण नहीं लिया है, तो आप विश्वकर्मा योजना के तहत 3 लाख रुपए तक की सरकारी ऋण प्राप्त कर सकते हैं। 5% की न्यूनतम ब्याज दर के सा।  
  • इस योजना से प्रति परिवार में से केवल एक ही सदस्य लाभान्वित हो सकता है।
  • यदि आपके परिवार का कोई सदस्य सरकारी कर्मचारी है तो आप इस योजना के लिए आवेदन नहीं कर सकते।

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का लाभ किसको मिलेगा

पीएम विश्वकर्मा योजना के पहले चरण में 18 पारंपरिक देश के सभी कारीगर और शिल्पकार को शामिल किआ गया है।  इन व्यवसायों में निम्नलिखित व्यवसाय शामिल हैं।

  1. लोहार
  2. सुनार
  3. मोची
  4. नाई
  5. धोबी
  6. दरजी
  7. कुम्हार
  8. मूर्तिकार
  9. कारपेंटर
  10. कलाकार
  11. राजमिस्त्री
  12. नाव बनाने वाले
  13. अस्त्र बनाने वाले
  14. ताला बनाने वाले
  15. मछली का जाला बनाने वाले
  16. हथौड़ा और टूलकिट निर्माता
  17. दलिया, चटाई, झाड़ू बनाने वाले
  18. पारंपरिक गुड़िया और खिलौना बनाने वाले

Leave a Comment